रविवार, 23 मई 2010

लेखक की पहचान



पहचान सको तो पहचान लो ,

लेखक को तुम आज जान लो।

रखता है अपने स्वछंद विचार,

करना नहीं पड़ता उसे प्रचार।

मन के भावों को आगे लाता है,

कल्पना को और सजीव बनाता है।

दुनिया की बातों को अपनी भाषा में दर्शाता है,

कष्टकारक बातों को बड़ी सफाई से छुपाता है।

पहचान सको तो पहचान लो ,
लेखक को तुम आज जान लो।


लेखन में हो ब्लॉग या हो कोई समाचार,

किसी की वाहवाही तो किसी पे अत्याचार।

किसी के कार्यों की हुई प्रशंसा,

तो किसी के कार्य हुए शब्दों के शिकार।

लेखन में लेखक धैर्य अपनाता है,

बात को अपनी सचित्र दर्शाता है।

किसी को ऊँचा उठाता है,

तो किसी को गढढे में गिराता है।

लेखन है लेखक की ऐसी कला,

मढ़ देता है दूसरों पे अपनी बला।

पहचान सको तो पहचान लो ,
लेखक को तुम आज जान लो।


अंततः ,


नाराज करो न लेखक को,

वरना मिजाज उसका बदल जायेगा।

अगर नाराज हो गया वह किसी पे,

तो लेखन में ही उसे निकल जायेगा।


7 टिप्‍पणियां:

  1. रोकता हूँ कलम इस सपने के साथ ,
    कि प्रकृति को सवांरने में आगे बढेंगे हाथ ।

    sunder.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut khoobsurati ke sath likha hai apne..

    Meri Nayi Kavita aapke Comments ka intzar Kar Rahi hai.....

    A Silent Silence : Ye Kya Takdir Hai...

    Banned Area News : Best Breaking News Read Here

    उत्तर देंहटाएं
  3. जय श्री कृष्ण...आपका लेखन वाकई काबिल-ए-तारीफ हैं....नव वर्ष आपके व आपके परिवार जनों, शुभ चिंतकों तथा मित्रों के जीवन को प्रगति पथ पर सफलता का सौपान करायें .....मेरी कविताओ पर टिप्पणी के लिए आपका आभार ...आगे भी इसी प्रकार प्रोत्साहित करते रहिएगा ..!!

    उत्तर देंहटाएं